Archive for Category: नज़्में

बैठा नदी के पास यही सोचता रहा: पवन कुमार

बैठा नदी के पास यही सोचता रहाकैसे बुझाऊँ प्यास यही सोचता रहा शादाब वादियों में वो सूखा हुआ दरख़्तकितना था बेलिबास यही सोचता रहा कितने लगे हैं घाव मैं करता रहा शुमारकितना हुआ उदास यही सोचता रहा इस अंधी दौड़ में करे किस सिम्त अपना रुख़हर फ़र्द बदहवास यही...

Read More

आहटें 2019

आहटें ————— अकेलेपन के बियाबाँ तवील जंगल में ये आहटें सी जो महसूस होती रहती हैं कभी ख़याल कभी दिल कभी नज़र के क़रीब समाअतों से ये मानूस होती रहती हैं ये बाज़गश्त हैं मुझमें कि हैं बजाहिर ये इन आहटों से मेरी रूह तक मचलती है ये आहटें...

Read More

वक्त पर

वक्त पर थम गई है बारिश जो गुज“री रात को हुई थी, धो दिए हैं रास्ते इस बारिश ने। सूरज भी खूब वक्त से निकला है, किरनें बिखरा दी हैं हरसू फि’ज़ाओं में। संदली खुश्बू भी बिखर गई है हवाओं में। देर तक शाख़ों के बिस्तर पर सोते रहने...

Read More

ख़त

जाने क्या सोच के तेरे ख़त कल नदी में बहाये थे, ख़त तो काग“ज“ के थे गल गए बह गए मगर वो सारे हफर्’ जो उन पर तूने लिखे थे वो सब अब तक दरिया में तैर रहे हैं।

Read More

समन्दर

एक मुकम्मल किनारे की तलाश में हर रोज कितने किनारे बदलता है समन्दर तमाम नदियों को जज्“ब करने के बाद भी मासूम सा दिखता है समन्दर। शाम होते ही सूरज को अपनी मुट्ठी में छुपाकर सबको परेशान करता है समन्दर। …बड़ा सफ़ेद पोश है ये समन्दर। (पुरी के समन्दर...

Read More

तहरीरें

एक वादा तुमसे रोज’ कुछ लिखने का तुम्हारे बारे में, अभी भी मुस्तैदी से निभा रहा हूँ। मगर इस बार तहरीरें काग’जों पर नहीं दिल के सफ’हों पे लिख रहा हूँ …पढ़ सकोगी तुम?

Read More

दर्द कौन समझेगा

तूने बख़्शा तो है मुझे खुला आसमां साथ ही दी हैं तेज’ हवाएं भी हाथों से हल्की जुम्बिश देकर जमीं से ऊपर उठा भी दिया है। मगर ये सब कुछ बेमतलब सा लगता है, ये आस्मां, ये हवाएं, ये हल्की सी जुम्बिश। काश! तूने ये कुछ न दिया होता...

Read More

तुम्हारी तरह

हवा जो छू के गुज’रती है मुझे उसमें खुश्बू बसी है तुम्हारी तरह। ये नदिया जो बहती है इसमें इक सादगी है तुम्हारी तरह। रंग धानी है हरसू बिखरा हुआ इस ज’मीं का है ये पैरहन है तुम्हारी तरह। बे मक’सद हैं राहें यहाँ की सभी मगर चलती जातीं...

Read More

लम्हों की तलाश

वो लम्हा मेरी मुट्ठी से रेत की तरह फिसल गया ऐसा लगा कि मुझसे कोई ‘मैं’ कहीं निकल गया। ढूँढ़ता हूँ उसी टुकड़े को हरेक शख़्स के वजूद में …शायद यह तलाश ताउम्र जारी रहेगी।

Read More